टेक्निकल एनालिसिस का आधार

कैसे एक फ्लैट बाजार में व्यापार करने के लिए

कैसे एक फ्लैट बाजार में व्यापार करने के लिए
डीडीए का मानना है कि यह योजना 100 फीसद सफल होगी। इसके पीछे बड़ी वजह है कि दिल्ली में हर साल हजारों-लाखों की संख्या में लोग किराये के फ्लैट के लिए इधर-उधर चक्कर काटते हैं। इनमें ज्यादातर ट्रांसफर-पोस्टिंग के केस होते हैं। ऐसे में कई बार तो उन्हें मन मुताबिक, किराये का फ्लैट भी नहीं मिल पाता। यही वजह है कि डीडीए अधिकारियों का मानना है कि इससे कैसे एक फ्लैट बाजार में व्यापार करने के लिए जहां लोगों की दिक्कत दूर होगी, वहीं दिल्ली विकास प्राधिकरण का भी लाभ होगा।

हाई-फ़्रीक्वेंसी ट्रेडिंग क्या है?

हाई-फ़्रीक्वेंसी ट्रेडिंग (HFT) एक स्वचालित ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म है जो बड़े निवेश बैंक, हेज फंड और संस्थागत निवेशकों को रोजगार देता है। यह अत्यधिक उच्च गति पर बड़ी संख्या में आदेशों को लेन-देन करने के लिए शक्तिशाली कंप्यूटरों का उपयोग करता है।

ये उच्च-आवृत्ति ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म व्यापारियों को लाखों आदेशों को निष्पादित करने और सेकंड के एक मामले में कई बाजारों और एक्सचेंजों को स्कैन करने की अनुमति देते हैं, इस प्रकार उन संस्थानों को दे रहे हैं जो खुले बाजार में प्लेटफार्मों का उपयोग करते हैं।

सिस्टम बाजारों का विश्लेषण करने के लिए जटिल एल्गोरिदम का उपयोग करते हैं और एक दूसरे के एक अंश में उभरते रुझानों को स्पॉट करने में सक्षम हैं। बाज़ार में बदलावों को पहचानने में सक्षम होने से, व्यापार प्रणालियाँ बाज़ार से बाहर सैकड़ों टोकरियाँ बोली-पूछ में भेजती हैं जो व्यापारियों के लिए फायदेमंद होती हैं।

चाबी छीन लेना

  • हाई-फ़्रीक्वेंसी ट्रेडिंग एक स्वचालित ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म है जो बड़े संस्थान उच्च गति पर कई आदेशों का लेन-देन करने के लिए उपयोग करते हैं।
  • एचएफटी सिस्टम बाजार का विश्लेषण करने के लिए एल्गोरिदम का उपयोग करते हैं और एक दूसरे के एक अंश में उभरते रुझानों को स्पॉट करते हैं।
  • आलोचक उच्च आवृत्ति की ट्रेडिंग को छोटे निवेशकों के खिलाफ बड़ी कंपनियों के लिए एक अनुचित लाभ के रूप में देखते हैं।

बाजार के रुझानों को अनिवार्य रूप से प्रत्याशित और हराकर, उच्च आवृत्ति व्यापार को लागू करने वाले संस्थान अपने बोली-पूछ प्रसार के आधार पर वे ट्रेडों पर अनुकूल लाभ प्राप्त कर सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप महत्वपूर्ण लाभ होता है।

उच्च आवृत्ति ट्रेडिंग को समझना

कुछ सुविधाओं को इसे करने के लिए:

  1. आदेशों को उत्पन्न करने, मार्ग और निष्पादन के लिए असाधारण रूप से उच्च गति और परिष्कृत कार्यक्रमों का उपयोग
  2. नेटवर्क और अन्य विलंबता को कम करने के लिए एक्सचेंजों और अन्य लोगों द्वारा प्रस्तुत सह-स्थान सेवाओं और व्यक्तिगत डेटा फीड का उपयोग
  3. पदों की स्थापना और परिसमापन के लिए बहुत कम समय-सीमा
  4. प्रस्तुत करने के तुरंत बाद रद्द किए जाने वाले कई आदेशों को प्रस्तुत करना
  5. संभव के रूप में एक फ्लैट की स्थिति के करीब के रूप में ट्रेडिंग दिन समाप्त (कि, कैसे एक फ्लैट बाजार में व्यापार करने के लिए महत्वपूर्ण नहीं ले जा रहा है, रात भर की स्थिति)

बाजारों में तरलता जोड़ने के लिए संस्थानों द्वारा एक्सचेंजों द्वारा दिए जाने वाले प्रोत्साहन की शुरुआत के बाद बाजारों में उच्च आवृत्ति व्यापार आम हो गया ।

मल्टीबैगर शेयर Share Market में निवेश करने वालों की संख्या करोड़ों में, गिरते बाजार में भी होगी बंपर कमाई

मल्टीबैगर शेयर Share Market में निवेश करने वालों की संख्या करोड़ों में, गिरते बाजार में भी होगी बंपर कमाई

Share Market में निवेश करने वालों की संख्या करोड़ों में पहुंच गई है . ऐसे में यह संभव है कि आप भी शेयर बाजार में निवेश करते हों . आप को ऐसे खबरें सुनने में आती होगी कि इस एक शेयर ने निवेशकों को मालामाल कर दिया है . एक वर्ष में 10 हजार रुपये को 1 लाख बना दिया है . वहीं, किसी दूसरे शेयर में निवेशक ने 10 लाख लगाया तो वह दो वर्ष में ही 3 करोड़ हो गया है . इस तरह के शेयर को बाजार की भाषा में मल्टीबैगर स्टॉक (Multibagger Stocks) कहते हैं . हालांकि, एक निवेश के लिए इस तरह के स्टॉक की पहचान करना काफी कठिनाई होता है . ज्यादातर निवेशक जब किसी शेयर में निवेश करते हैं तो वह कैसे एक फ्लैट बाजार में व्यापार करने के लिए टूटकर नीचे चला आता है . इससे निवेशकों को हानि होने लगता है . अब प्रश्न उठता है कि मल्टीबैगर स्टॉक की पहचान कैसे की जाए . तो आइए, हम आपको बताते हैं कि आप किस तरह मल्टीबैगर स्टॉक की पहचान कर सकते हैं .

नए फ्लैट में मिले खराबी तो बिल्डर से मांगे मुआवजा, इस तरीके से दर्ज कराएं शिकायत

नए फ्लैट में मिले खराबी तो बिल्डर से मांगे मुआवजा, इस तरीके से दर्ज कराएं शिकायत

प्रतीकात्मक तस्वीर।

घर या फ्लैट खरीदते समय अक्सर आपकी शिकायत होती है कि बिल्डर ने पहले आपको जो मॉडल दिखाया था, उसमें जो चीजें आपको दिखाई गई थी वो फ्लैट मिलने के बाद नहीं मिली। इसे लेकर आप परेशान रहते हैं कि क्या किया जाए। बिल्डर से इसकी शिकायत करते हैं तो वो या तो बात को टाल जाता है या फिर आश्वासन देकर आपका मुंह बंद कर देता है। ऐसे में आपके पास क्या विकल्प बचते हैं। अगर बिल्डर आपको वो चीजें फ्लैट में नहीं देता है जो उसने आपसे देने के वादे किए थे तो आप बिल्डर से इसके लिए मुआवजा मांग सकते हैं। इसके लिए कैसे एक फ्लैट बाजार में व्यापार करने के लिए आपको बिल्डर के खिलाफ राष्ट्रीय उपभोक्ता आयोग में शिकायत करनी होगी।

दिल्ली में अब सरकारी रेट पर किराया/Rent मिलेगा सरकारी DDA फ़्लैट, सस्ते में मिल जाएगा रहने के लिए जगह

दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले अथवा भविष्य में किराये का घर लेने वालों के लिए नरेंद्र मोदी सरकार ने बड़ी राहत प्रदान की है। इससे देशभर में रेंटल हाउसिंग सेक्टर को मदद मिलेगी। बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में मॉडल टेनेंसी एक्ट को मंजूरी दी गई है। इसके दिल्ली समेत देश के सभी केंद्र शासित राज्यों में भी किराये से जुड़े नियमों में बदलाव हो सकेगा। नए कानून में दिल्ली समेत सभी राज्यों में नए नियम लागू करने की अनुमति भी प्रदान की दी गई है। बता दें कि राजधानी में दिल्ली विकास प्राधिकरण शहर में सस्ती दरों पर किराये के फ्लैट के लिए योजना तैयार कर रहा है।

डीडीए खुद चढ़ाए किराये पर फ्लैट

इसके तहत दिल्ली में निर्मित फ्लैटों को किराये पर दिया जाएगा अथवा नए फ्लैट बनाकर उन्हें किराये पर देगा। इस पर सहमति बनानी है। डीडीए अधिकारियों की मानें तो फिलहाल किफायती किराया आवास योजना प्राथमिक चरण में है। इस पर अधिकारियों की सहमति बनने के बाद ही आगे बढ़ जा सकता है। डीडीए के ऐसे कई फ्लैट सालों खाली पड़े हैं। अगर इन्हीं फ्लैटों को किराये पर दिया जाए तो डीडीए को बड़ा आर्थिक लाभ होगा। किलमिलाकर मॉडल टेनेंसी एक्ट के आने से दिल्ली विकास प्राधिकरण इस दिशा में तेजी से आने बढ़ेगा।

कैसे एक फ्लैट बाजार में व्यापार करने के लिए

SHARE MARKET: शानदार कमबैक के बाद फिर फ्लैट खुला शेयर बाजार, जानें कैसा रहा आज का शुरुआती कारोबार

नई दिल्ली: आज हफ्ते के आखिरी कारोबारी सत्र में शेयर बाजार तेजी के साथ खुला है। सेंसेक्स 55 अंकों की तेजी के साथ 62327 के स्तर पर, निफ्टी 44 अंकों के उछाल के साथ 18528 पर और बैंक निफ्टी 117 अंकों के उछाल के साथ 43192 के स्तर पर खुला। आज दिसंबर सिरीज का पहला कारोबारी सत्र भी है। शुरुआती कारोबार में बाजार पर दबाव दिख रहा है।

निफ्टी के टॉप गेनर्स और लूजर्स

वहीं आज निफ्टी के टॉप गेनर्स कि लिस्ट में कोल इंडिया, एचडीएफसी लाइफ, लिमिटेड, मारुति, टाटा मोटर्स, इंडसइंड बैंक, बीपीसीएल, ओएनजीसी, रिलायंस, एक्सिस बैंक, अल्ट्रा सीमेंट, एनटीपीसी, टाटा स्टील, एम एंड कैसे एक फ्लैट बाजार में व्यापार करने के लिए एम, डिविस लैब, हीरो मोटोकॉप, हिंडाल्को, सिप्ला, यूपीएल, डॉ रेड्डी रहे है। साथ ही निफ्टी के टॉप लूजर्स की लिस्ट में नेस्ले, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एशियन पेंट, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी, भारती एयरटेल, कोटक बैंक, अपोलो अस्पताल, एचसीएल टेक, टीसीएस, ब्रिटानिया, पावर ग्रिड, आईटीसी, इंफी, टाइटन, टेकम, एचडीएफसी बैंक है।

रेटिंग: 4.57
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 687
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *