शुरुआती लोगों के लिए निवेश के तरीके

विदेशी मुद्रा मुद्रा बाजार क्या है?

विदेशी मुद्रा मुद्रा बाजार क्या है?

Banking General Awareness Money Market and Capital Market Question Bank

निम्नलिखित में से कौन सा कथन वाणिज्यिक पत्र के बारे में सच है? [A] यह एक वचनपत्र है। [B] यह मुद्रा बाजार में कारोबार के लिए विदेशी मुद्रा मुद्रा बाजार क्या है? प्रयोग किया जा रहा है। [C] यह 1990 में शुरू की गर्इ विदेशी मुद्रा मुद्रा बाजार क्या है? थी। [D] यह असुरक्षित साधन है।

निम्नलिखित में से कौन सा कथन जमा के प्रमाण पत्र के बारे में सत्य है? [A] वाणिज्यिक पत्र की तुलना में यह सुरक्षित साधन है। [B] यह एक वचनपत्र है। [C] यह पूंजी बाजार में प्रयोग किया जा रहा है। [D] यह 1989 में शुरू की गर्इ थी।

दिए गए कथन मे जो ट्रेजरी बिल के लिए गलत है? [A] यह एक सुरक्षित साधन है। [B] यह एक वचनपत्र है। [C] यह सरकार द्वारा जारी किया जाता है। [D] यह 1 साल की अधिकतम परिपक्वता के लिए जारी किया जाता है।

दिए गए कथनों में जो एक वाणिज्यिक बिल के बारे में सच है? [A] यह एक वचनपत्र है। [B] यह मुद्रा बाजार का एक प्रपत्र है। [C] यह एक व्यापार बिल है। [D] यह भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किया जाता है।

निम्न में से कौन सा कथन दिनांकित प्रतिभूतियों से संबंधित है? [A] यह एक सुरक्षित साधन है। [B] यह सरकार द्वारा जारी किया जाता है। [C] यह एक सरकार द्वारा ऋण को स्वीकृत करता है। [D] परिपक्वता की तिथि प्रमाण पत्र पर उल्लेखित की जाती है।

वित्तीय संस्थाओं द्वारा जारी किए गए प्रमाण पत्र जमा का 1 साल के लिए 7 दिनों के लिए कर रहे हैं। done clear

निम्नलिखित में से कौन सा डीप डिस्काउंट बांड से संबंधित है? [A] यह एक लंबी अवधि जीरो कूपन बांड है। [B] ब्याज की दर प्रमाण पत्र पर उल्लेखित है। [C] यह डाकखानो द्वारा जारी किया जाता हैं। [D] परिपक्वता की तिथि प्रमाण पत्र पर उल्लेखित नही है।

विदेशी मुद्रा भंडार ने फिर लगाया गोता, सात दिनों में 3.007 अरब डॉलर की आई गिरावट, समझें पूरी बात

Foreign Exchange Reserves of India: विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserve) में महत्वपूर्ण हिस्सा रखने वाली विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों (एफसीए) में गिरावट से कुल मुद्रा भंडार नीचे आया.

Foreign Exchange Reserves of India: देश का विदेशी मुद्रा भंडार 26 अगस्त को समाप्त सप्ताह के दौरान 3.007 अरब डॉलर घटकर 561.046 अरब डॉलर रह गया भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है. इससे पिछले 19 अगस्त को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 6.687 अरब डॉलर घटकर 564.053 अरब डॉलर रहा था. पीटीआई की खबर के मुताबिक, विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserve) में महत्वपूर्ण हिस्सा रखने वाली विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों (एफसीए) में गिरावट से कुल मुद्रा भंडार नीचे आया. समीक्षाधीन सप्ताह में विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां 2.571 अरब डॉलर घटकर विदेशी मुद्रा मुद्रा बाजार क्या है? 498.645 अरब डॉलर रह गईं. आंकड़ों के मुताबिक, स्वर्ण भंडार (gold reserve of India August 2022) भी 27.1 करोड़ डॉलर घटकर 39.विदेशी मुद्रा मुद्रा बाजार क्या है? 643 अरब डॉलर पर आ गया.

इस वजह से आई गिरावट

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा शुक्रवार को जारी साप्ताहिक आंकड़े के मुताबिक, 26 अगस्त को खत्म समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान भंडार में गिरावट विदेशी मुद्रा आस्तियों (FCA), समग्र भंडार (Foreign Exchange Reserves of India) का एक प्रमुख घटक और स्वर्ण भंडार में गिरावट के कारण थी. समीक्षाधीन सप्ताह में FCA 2.571 बिलियन अमरीकी डॉलर घटकर 498.645 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गया. आईएमएफ (IMF) के साथ देश की स्थिति भी समीक्षाधीन सप्ताह में 10 मिलियन अमरीकी डॉलर घटकर 4.926 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गई.

29 जुलाई तक 56 अरब डॉलर की कमी

भारतीय रिजर्व बैंक के मुताबिक, निरपेक्ष रूप से 2008-09 के वैश्विक वित्तीय संकट के चलते मुद्रा भंडार (foreign exchange reserves of india) में 70 अरब अमेरिकी डॉलर की गिरावट आई. जबकि कोविड-19 अवधि के दौरान इसमें 17 अरब डॉलर की ही कमी हुई. वहीं रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते इस वर्ष 29 जुलाई 2022 तक 56 अरब डॉलर की कमी (Foreign Exchange Reserves) आई है.

लेकिन RBI ने तब कहा कि उसके हस्तक्षेप से आई गिरावट

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने विदेशी मुद्रा मुद्रा बाजार क्या है? पिछले महीने कहा था कि उसके हस्तक्षेप से मुद्रा बाजार में उतार-चढ़ाव के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserves of India) घटने की दर में कमी आई है. आरबीआई अधिकारियों के अध्ययन में कहा गया कि अध्ययन में 2007 से लेकर रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण मौजूदा समय में उत्पन्न उतार-चढ़ाव को शामिल किया गया है. केंद्रीय बैंक की विदेशी मुद्रा बाजार (foreign exchange reserves) में हस्तक्षेप की एक घोषित नीति है. केंद्रीय बैंक (RBI) अगर बाजार में अस्थिरता देखता है, तो हस्तक्षेप करता है. हालांकि, रिजर्व बैंक मुद्रा को लेकर कभी भी लक्षित स्तर नहीं देता है.

विदेशी मुद्रा मुद्रा बाजार क्या है?

अतंरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रूपया 16 पैसे मजबूत

अतंरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रूपया 16 पैसे मजबूत

मुंबई। रूपया कल शुक्रवार को अंतरबैंक विदेशी मुद्रा मार्केट में लगातार तीसरे दिन भी बढ़ोतरी जारी रहे इस वृद्धि से रूपया में 16 पैसे की वृद्धि के साथ चार सप्ताह के उच्चतम स्तर पर डॉलर के मुकाबले 63.67 पर पहुंच गया। ऐसा निर्यातकों द्वारा डॉलर की बिक्री बढ़ाने के ध्यान में रखा गया है।

विदेशी मुद्रा कारोबारियों ने बोला है कि इसके अलावा घरेलू इक्विटी मार्केट में मजबूत शुरूआत और यूरो एवं अन्य विदेशी मुद्राओं के मुकाबले डॉलर में कमजोरीकी वजह से रूपए को सहारा मिला। रूपया कल 39 पैसे की मजबूती के साथ 63.73 के लेवल पर बंद हो गया।

क्या मानना है फॉरेक्स एक्सपर्ट
फॉरेक्स एक्सपर्ट का मानना है कि मानसून की गति के आधार पर ही रुपए की गति निर्भर करेगी। इसके अलावा, कच्चे तेल के दामों में कमी भी रुपये पर दबाव बना सकती है। अमेरिका में ब्याज दरों में बढ़ोत्तरी भी रुपये के लिए दबाव बनाने का काम करेगा, ऐसे में आगे डॉलर के मुकाबले रुपया 64.5-65 के भीतर रह सकता है।

चीन राष्ट्रीय विदेशी मुद्रा प्रशासन: चीन के विदेशी मुद्रा बाजार में अच्छा लचीलापन

बीजिंग,(आईएएनएस)| 21 नवम्बर को आयोजित 2022 वित्तीय मंच के वार्षिक सम्मेलन के उद्घाटन समारोह में चीनी जन बैंक के उपाध्यक्ष, चीनी राष्ट्रीय विदेशी मुद्रा प्रशासन के प्रधान फान कोंगशंग ने कहा कि इस वर्ष उच्च मुद्रास्फीति और सिकुड़न मुद्रा नीति के प्रभाव से विदेशी मुद्रा समेत अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय बाजार की डांवाडोल स्थिति को एक साल हो चुका है। इसके बावजूद चीनी विदेशी मुद्रा के बाजार में लचीलापन दिखता है।

फान कोंगशंग ने कहा कि इस वर्ष वैश्विक स्टॉक, बॉन्ड और अन्य वित्तीय संपत्ति की कीमतें बड़े पैमाने पर गिर चुकी हैं। यूएस डॉलर तेजी से मजबूत हो गया है और 20 वर्षों की एक विदेशी मुद्रा मुद्रा बाजार क्या है? नयी ऊंचाई पर पहुंचा है।

फान कोंगशंग ने कहा कि चीन की विदेशी मुद्रा के बाजार में नयी विशेषताएं दिख रही हैं और लचीलापन निरंतर मजबूत हो रहा है। वैश्विक दायरे में प्रमुख विकसित और नवोदित बाजार में मुद्राओं की तुलना में चीनी मुद्रा आरएमबी की अवमूल्यन दर औसत स्तर पर रही है। सीमा पार फंड के प्रवाह में उतार -चढ़ाव होने के बावजूद यह आम तौर पर स्थिर और व्यवस्थित रहा है।

साथ ही चीनी वित्तीय विभागों ने वित्तीय समर्थन की कई नीतियां जारी कीं, जिन्होंने बंदोबस्त की भूमिका अदा की है और बाजार में सक्रिय प्रभाव पड़ा है। भविष्य में चीनी राष्ट्रीय विदेशी मुद्रा प्रशासन वित्तीय खुलेपन और सुरक्षा का समायोजन कर उच्च स्तरीय खुले विदेशी मुद्रा प्रबंध तंत्र की स्थापना करेगा, विदेशी मुद्रा के सुधार और खुलेपन को गहरा करेगा, सीमा पार व्यापार और निवेश के सुविधाकरण के स्तर को उन्नत करेगा और विदेशी मुद्रा बाजार के स्वस्थ प्रचलन और राष्ट्रीय आर्थिक वित्तीय सुरक्षा की रक्षा करेगा।

रेटिंग: 4.47
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 643
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *