शुरुआती लोगों के लिए निवेश के तरीके

सिग्नल कैसे काम करते हैं?

सिग्नल कैसे काम करते हैं?
Signal Kya Hai

कैसे सिग्नल की क्षमता को बढ़ाने के लिए?

हम आपको बताते हैं मोबाइल को बूस्ट करने का सबसे बेहतरीन तरीका.

  1. अपने मोबाइल को 3 जी से 2 जी शिफ्ट कर लें.
  2. कवर लगाने पर भी सिग्नल कम आते हैं.
  3. सिग्नल वीक होने पर स्मार्टफोन को कांच के गिलास में रख दें.
  4. सिग्नल कैसे काम करते हैं?
  5. सिग्नल बूस्टर को इंस्टाल कर लें.
  6. अगर किसी जगह पर नेटर्वक की समस्या है.

इसे सुनेंरोकेंबेहतर सिग्नल के लिए आसान उपाय अपने फोन को ऐसे अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से दूर रखें जो आपके सिग्नल में बाधा डाल सकते हैं: इन उपकरणों में लैपटॉप, आईपैड, माइक्रोवेव और अन्य इलेक्ट्रॉनिक्स शामिल हैं । वाईफाई और ब्लूटूथ बंद कर दें, और देखें कि क्या वैसा करने से आपका फोन बेहतर सिग्नल पा सकता है कि नहीं ।

यदि सिग्नल कमजोर हो जाता है तो उसे पुनर्स्थापित करने के लिए क्या उपाय किया जाता है?

इसे सुनेंरोकेंऐसी स्थिति में स्मार्टफोन को चार्ज पर तुरंत लगाना चाहिए. फ़ोन का सिग्नल अगर बहुत बढ़िया काम नहीं कर रहा है तो कालिंग के लिए कभी कभी डेटा सर्विस को व्हाट्सऐप, वाइबर, निम्बज़, स्काइप जैसे ऐप का इस्तेमाल भी किया जा सकता है. अब तो वीडियो कॉल भी एक विकल्प है और वाई फाई जोन में ये आसानी से किया जा सकता है.

कैसे घर में मोबाइल नेटवर्क सिग्नल बढ़ाने के लिए?

Mobile Network Signal Kaise Badhaye?

  1. 2.1 एयरप्लेन मोड में डालें
  2. 2.2 नेटवर्क सेटिंग में बदलाव करें
  3. 2.3 लोकेशंस चेज करके
  4. 2.4 बैटरी चार्ज रखें
  5. 2.5 Wifi Signal का प्रयोग करें
  6. 2.6 सिम कार्ड Re-insert करें
  7. 2.7 फोन को सही तरीके से पकड़ें
  8. 2.8 भीड़ से बचें

मोबाइल में नेटवर्क क्यों नहीं आते?

इसे सुनेंरोकेंइसके लिए आपको फोन की सेटिंग में जाना होगा. आपको यहां मोबाइल नेटवर्क का ऑप्शन मिलेगा, यहां आप नेटवर्क सर्च कर सकते हैं. सॉफ्टवेयर अपडेट करें- अगर बार बार फोन में नेटवर्क की समस्या आ रही है, तो इसके लिए आपको सॉफ्टवेयर भी चेक करवा लेना चाहिए. कई बार पुराना सॉफ्टवेयर होने की वजह से भी नेटवर्क की समस्या आने लगती है.

मोबाइल से टीवी के सिग्नल कैसे मिलाए?

इसे सुनेंरोकेंयदि आप अपने टीवी का सिग्नल ठीक करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको अपने एंड्राइड मोबाइल के play store को open करना होगा तथा उसके सर्च बॉक्स में satellite finder app टाइप कर सर्च करना होगा ,इसके बाद स्क्रीन शॉट द्वारा दिखाए गए app को इंस्टॉल करना होगा।

मोबाइल नेटवर्क कैसे काम करता है?

इसे सुनेंरोकेंमोबाइल टावर Wireless Network के आधार पर काम करता है,और यूजर को voice और डाटा सर्विसेस प्रदान करता है इसे Cellphone Network या Cellular Network भी कहा जाता है। मोबाइल टावर को क्षेत्र के हिसाब से हेक्सागोलन सेल में विभाजित किया जाता है,प्रत्येक cell टावर BTS (Base station) से जुड़ा होता है।

मोबाइल टावर कैसे काम करता है?

इसे सुनेंरोकेंये टॉवर आपस में फाइबर के जरिए जुड़े रहते हैं और मोबाइल टावर फाइबर के जरिए दूसरे टावर तक कनेक्ट होकर काम करते हैं. इसके बाद अगले व्यक्ति पास वाले टावर से सिग्नल उन्हें मिल जाते हैं. यह पोस्टऑफिस की तरह काम करता है. आप पहले पोस्ट ऑफिस में चिट्ठी देकर आते हैं और ये चिट्ठी अगले व्यक्ति के नजदीकी स्टेशन तक पहुंचती है.

मोबाइल का नेटवर्क कैसे बनाएं?

इंटरनेट चलाने, कॉल करने, और मैसेज (एसएमएस) भेजने के लिए डिफ़ॉल्ट सिम सेट करना

  1. अपने फ़ोन पर सेटिंग ऐप्लिकेशन खोलें.
  2. नेटवर्क और इंटरनेट मोबाइल नेटवर्क अपने नेटवर्क पर टैप करें.
  3. हर नेटवर्क के लिए प्राथमिकताएं सेट करें: डेटा: मोबाइल डेटा चालू करें. ज़रूरी: इंटरनेट के लिए सिर्फ़ एक सिम को डिफ़ॉल्ट सेट किया जा सकता है.

मोबाइल नेटवर्क कैसे सर्च करें?

इसे सुनेंरोकेंमैनुअली करें सर्च यदि फोन को रीस्टार्ट करने के बाद भी नेटवर्क नहीं आ रहा है तो एक बार सेटिंग में जाकर फोन को मैनुअली नेटवर्क सर्च कर दें। सेटिंग में मैनुअली नेटवर्क सर्च करने का विकल्प आपको वायरलेस एंड नेटवर्क में सेल्यूलर नेटवर्क के अंदर नेटवर्क आॅपरेटर्स में मिलेगा।

नेटवर्क ना मिले तो क्या करना चाहिए?

मोबाइल में नेटवर्क नहीं आ रहा है तो अपनाए यह तरीका

  1. मोबाइल कवर को रिमूव सिग्नल कैसे काम करते हैं? करे अगर आप अपने स्मार्टफोन में कवर का इस्तेमाल करते हैं तो आपको कमजोर सिग्नल की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.
  2. बैटरी को चार्ज करके रखे
  3. बैटरी और सिम कार्ड रिमूव करे
  4. नेटवर्क सेटिंग चेंज करे
  5. मोबाइल फोन को अपडेट करे
  6. फोन को फैक्टरी रिसेट करे

फ्री डिश टीवी को कैसे सेट करें?

छतरी सेट करने या डिश ऐन्टेना का सिग्नल मिलाने का तरीका

  1. टीवी स्क्रीन पर आने की प्रतीक्षा करें।
  2. अब हाइलाइटर को इंस्टालेशन बॉक्स विकल्प पर ले जाएँ और यहाँ सॅटॅलाइट लिस्ट पर जाए।
  3. यहाँ सॅटॅलाइट को जोड़े, उसका नाम, पोजीशन, डालकर सेव करे।
  4. अब यहाँ से बाहर निकले, और ट्रांसपोंडर लिस्ट पर जाए।

मेरा फोन कैसे काम करता है?

इसे सुनेंरोकेंजब आप कॉल के दौरान अपने मोबाइल फोन पर कुछ बोलते हैं, तो आपकी आवाज आपके फोन के माइक्रोफोन द्वारा उठाई जाती है। MEMS सेंसर और आईसी (IC) की मदद से माइक्रोफोन आपकी आवाज को डिजिटल सिग्नल में बदल देता है।

मोबाइल में नेटवर्क क्यों नहीं आ रही?

इसे सुनेंरोकेंअगर टावर नहीं आ रहा है तो सबसे पहले अपने मोबाइल को स्विच ऑफ करे इसे बाद बैटरी और सिम कार्ड निकाल दे इसके बाद 5 मिनिट तक इन्तजार करना है पांच मिनिट के बाद अपने मोबाइल में सिम कार्ड और बैटरी लगाये और मोबाइल ऑन कर दे. इससे काफी हद तक सिग्नल की समस्या सोल्व हो जाएगी.

एंटीना कैसे लिखें?

इसे सुनेंरोकेंएंटीना क्या है (What is Antenna in Hindi) Antenna एक प्रकार का device होता है जो की electromagnetic waves transmit और receive करने के काम आता है.

मोबाइल में नेटवर्क प्रॉब्लम क्यों होती है?

इसे सुनेंरोकेंसॉफ्टवेयर अपडेट करें- अगर बार बार फोन में नेटवर्क की समस्या आ रही है, तो इसके लिए आपको सॉफ्टवेयर भी चेक करवा लेना चाहिए. कई बार पुराना सॉफ्टवेयर होने की वजह से भी नेटवर्क की समस्या आने लगती है. इसके लिए आप अपने फोन का लेटेस्ट सॉफ्टवेयर अपडेट जरूर कर लें.

dish tv ka signal kaise milaye किसी भी कम्पनी के एंटीना का सिग्नल कैसे ठीक करें. पूरी जानकारी हिंदी में

विज्ञान के अविष्कार के कारण लोगों के जीवन स्तर में आमूलचूल परिवर्तन आया है ,यही कारण है कि अब जीवन मुलभुत आवश्यकताओं में रोटी ,कपड़ा , मकान के साथ बहुत कुछ जुड़ गया है ,इन्हीं आवश्यकताओं में से एक है मनोरंजन। मनोरंजन के लिए हर कोई अलग -अलग तरीका अपनाते हैं , संगीत सुनना , घूमने जाना , घर में टीवी देखना आदि -आदि।

यदि आप घर पर हैं तो आपके मनोरंजन तथा देश विदेश से जुड़ी खबरों के लिए टीवी सबसे बढ़िया साधन है। कोरोना के कारण लॉक डाउन में ज्यादातर लोग मनोरंजन तथा देश -विदेश से जुड़ी जानकारियों के लिए टीवी का सहारा ले रहे थे। आप घर में टीवी देख रहे हैं और ऐसे में tv signal चला जाये तो सोचो आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी।

आज हम tv signal ठीक करने के जिस तरिके के बारे में बताने जा रहे हैं ,जिसके माध्यम से कोई भी कम्पनी जैसे -dish tv /free dish /d2h /airtel आदि का सिग्नल आप मिनटों में ठीक कर पाएंगे। सिग्नल ठीक करने के लिए आपको अलग से कोई डिवाइस भी लेना नहीं पड़ेगा। आप सिग्नल ठीक कर पैसा भी कमा पाएंगे।

टीवी सिग्नल ख़राब होने पर ज्यादातर लोग कम्पनी में कॉल करके सिग्नल ठीक करने वाला हायर करते हैं ,ऐसे में कम्पनी के तरफ से जो सिग्नल सेट करने वाले आते हैं ,उन्हें पैसा देना पड़ता है ,इसके अलावा उन्हें आने में दो से तीन दिन भी लग जाता है। कुछ लोग अपने स्तर पर सिग्नलबनाने का प्रयास करते हैं ,बहुत मेहनत करने के बाद भी कभी -कभी सिग्नल नहीं बन पाता।

फ्रेंड्स ,आज हम आपको टीवी सिग्नल ठीक करने का ऐसा तरीका बता रहे हैं ,जिससे आप स्वयं ही टीवी सिग्नल ठीक कर पाएंगे ,इससे आपका समय और पैसा दोनों बचेगा। वैसे तो यह सभी सीजन में आपका काम आएगा ,परन्तु बरसात में आंधी तूफान से सिग्नल ख़राब होने पर यह आपका ज्यादा काम आने वाला है।

हम इस पोस्ट में टीवी सिग्नल ठीक करने के तरिके स्टेप बाई स्टेप बताने जा रहे हैं ,परन्तु आपको इस पोस्ट को शुरू से अंत तक ध्यान से पढ़ना होगा क्योंकि यदि किसी स्टेप छूट जाता है तो सिग्नल ठीक करने में परेशानी हो सकती है।

आपके घर के पास जो मोबाइल टावर लगे हैं, इनका काम क्या होता है? किसी को फोन करने में ये कैसे मदद करते हैं

आपने देखा होगा कि आपके घर के आसपास मोबाइल टावर होंगे, लेकिन कभी आपने सोचा है कि आखिर ये कैसे काम करते हैं और क्या सही में इनके पास जाने से फोन का नेटवर्क सही हो जाता है?

आपके घर के पास जो मोबाइल टावर लगे हैं, इनका काम क्या होता है? किसी को फोन करने में ये कैसे मदद करते हैं

TV9 Bharatvarsh | Edited By: रोहित ओझा

Updated on: Sep 18, 2021 | 6:30 AM

आपके इलाके में आपने देखे होंगे कि मोबाइल टावर लगे होते हैं. अब तो इसका बिजनेस भी काफी किया जा रहा है. आपने देखा होगा कि इस टावर में बड़े-बड़े एंटीना और तार लगे होते हैं और इसमें कोई आवाज नहीं आती है और इसमें कोई आदमी भी काम नहीं करता. तो फिर इन टावर का काम क्या होता है. कहा जाता है कि जब आप किसी को फोन करते हैं तो ये टावर ही आपकी आवाज को अगले व्यक्ति तक पहुंचाते हैं.

तो आज समझने की कोशिश करते हैं कि मोबाइल टावर क्या काम करते हैं और यह अपना काम किस तरह से करते हैं. आप भी इस रिपोर्ट को देखने के बाद आपका किया हुआ कॉल कुछ ही सेकेंड में अगले व्यक्ति के पास किस तरह पहुंच जाता है. जानने हैं इससे जुड़ी हर एक बात…

मोबाइल टावर क्या करता है?

जब आप किसी से फोन पर बात करें तो आपकी आवाज को फोन सिग्नल में कन्वर्ट करके भेजता है और यह दूसरे व्यक्ति के फोन तक सिग्नल के माध्यम से पहुंचता है और उसके बाद उन सिग्नल को आवाज में कन्वर्ट कर दिया जाता है. इससे पता चलता है कि आखिर अगले आदमी ने क्या बोला है. लेकिन सवाल है कि आखिर कैसे ये सिग्नल एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते हैं.

दरअसल, ये सिग्नल विद्युत चुंबकीय तरंगों के माध्यम से हवा में ही एक स्थान से दूसरे स्थान पर ट्रांसफर होती है. ये खास तरीके की तरंगे होती हैं, जिन्हें रेडियो फ्रीकवेंसी कहा जाता है. लेकिन आप सोच रहे होंगे कि यह कुछ ही सेकेंड में एक हजारों किलोमीटर का फासला कैसे पूरा कर लेती हैं. इनके बीच में इमारतें, पहाड़ आदि आते होंगे. अब ये जो काम है ये मोबाइल टावर ही करते हैं. मोबाइल टावर आपके फोन के सिग्नल को आगे पहुंचाने में मदद करते हैं. यानी अगर आप किसी से बात करते हैं तो मोबाइल टावर के जरिए ही अगले व्यक्ति तक बात पहुंचती है.

कैसे फोन कनेक्ट करता है टावर

ये टॉवर आपस में फाइबर के जरिए जुड़े रहते हैं और मोबाइल टावर फाइबर के जरिए दूसरे टावर तक कनेक्ट होकर काम करते हैं. इसके बाद अगले व्यक्ति पास वाले टावर से सिग्नल उन्हें मिल जाते हैं. यह पोस्टऑफिस की तरह काम करता है. आप पहले पोस्ट ऑफिस में चिट्ठी देकर आते हैं और ये चिट्ठी अगले व्यक्ति के नजदीकी स्टेशन तक पहुंचती है. इसके बाद वहां से डाकिया उसके घर तक चिट्ठी दे देता है.

ऐसे ही पहले तरंगों के जरिए मोबाइल नेटवर्क तक आपकी बात पहुंचती है और मोबाइल नेटवर्क इसे फाइबर में जाने के लिए तैयार करता है और फाइबर के जरिए अगले व्यक्ति के नजदीकी टावर तक इसे पहुंचाया जाता है. फिर तरंगों के माध्यम से फोन में भेज दिया जाता है. अब आप समझ गए होंगे कि ये टावर क्या करते हैं. टावर के तरंगों को कन्वर्ट करने और हासिल करने का काम उसके ऊपल लगए एंटीना से होते हैं, जो हर टावर में लगे होते हैं.

Signal क्या है और यह कितने प्रकार है ?

आज पूरी दुनिया एक दूसरे से संचार बड़े ही आसानी से Computer और Laptop या किसी भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से कर पा रही है तो वह माध्यम है सिग्नल.

आज ISRO ना जाने कितने Satellite से संचार करता है इस Signal के मदद से ऐसे में Signal kya hai आज बहुतों को नहीं पता पर कुछ लोग है जो Signal के बारे में जानकारी हासिल करने में रुचि रखते है।

जिनके लिए मै आज यह पोस्ट लिख रखा हु ताकि आप Signal Kya Hai In Hindi /सिग्नल क्या है हिन्दी मे और Signal Kitne Prakar Ke Hote Hain जान सके

वैसे तो ज्यादा तर लोग दो तरह के सिग्नल के बारे में बात करते है जिसमे पहला है Analog signal और दूसरा है Digital Signal जिनके बारे में हम आज जनेगे Signal in Hindi.

Signal Kya Hota Hai

Signal Kya Hai

सिग्नल क्या है ?(What is Signal in Hindi)

Signal एक इलेक्ट्रोमैग्नेटिक या लाइट वैव है जिसका उपयोग किसी भी communication channel की मदद से कोई भी डेटा को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस तक भेजा जाता है.

उदाहरण के तौर पर समझे मान ले आप किसी भी स्मार्टफोन पर किसी से बात कर रहे है इसमे जब आप कुछ बोलते है तो स्मार्टफोन मे लगा microphone आपके द्वारा आ रहे ध्वनि सिग्नल को इलेक्ट्रिकल Signal मे बदल देता है.

यह इलेक्ट्रिकल Signal वही फ्रीक्वन्सी और bandwidth के साथ आपके आस पास लगे सेल फोन टावर के पास पहुचता है और टावर मे लगे antenna उस सिग्नल को transmit करदेगा Switching Center मे और यह उसे मिलाई गए नंबर से कॉल जोड़ देगा.

फिर वह वॉयस सिग्नल जो इलेक्ट्रिक Signal के रूप मे इस डिवाइस तक आई है वह वापस स्मार्टफोन मे लगे स्पीकर के मदद से वॉयस सिग्नल मे बदल जाएगा तो सिग्नल क्या है हमने जाना.

Signal के प्रकार

अगर हम बात करे सिग्नल के प्रकार की तो मुख्य रूप से दो Signal है जिसका उपयोग सबसे ज्यादा कीया जाता है.

एनालॉग सिग्नल क्या है (What is Analog Signal in Hindi)

Analog Signal वह Signal होते है जो टाइम के साथ continuously varying करते है जैसे voltage, pressure, human voice इत्यादि.यह सभी टाइम के साथ varying करते है.इसमे धार समय के साथ परिवर्तित होता रहता है और यह तरंग के रूप मे डेटा को संचारित करता है.

इसकी तरंगे आवृती की तरह काम करते है जिसका उपयोग telecommunication ,टीवी,रेडियो इत्यादि जीतने भी वायर लेस communication डिवाइस है यह सभी एनालॉग सिग्नल के ही मदद से काम करते है.

इस Signal का उपयोग वहा कीया जाता है जहां bandwidth कम हो क्यू की एनालॉग सिग्नल की bandwidth स्लो होती है.

Analog Signal के फायदे |Advantage of Analog Signal
  • इस तरह के सिग्नल मे किसी भी data को define करने की कोई अंत नहीं होती है
  • वही एनालॉग सिग्नल को प्रोसेस करना बहुत ही सरल है।
  • यह सिग्नल audio और video transmission के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है।
  • यह सिग्नल बहुत ही घनत्व होते है जिसके कारण ज्यादा से ज्यादा परिष्कृत इनफार्मेशन भेजा या पाया जा सकता है।
  • एनालॉग सिग्नल की सबसे खास बात यह है की यह बहुत ही कम bandwidth का स्तेमाल करता है डिजिटल सिग्नल के मुकाबले।
  • वही एनालॉग सिग्नल Continuous चलता है।
ऐनलॉग सिग्नल के नुकसान |Disadvantage of Analog Signal
  • इस सिग्नल मे काफी ज्यादा noise होती है।
  • जयद दूरी वाले डाटा ट्रांसमिसन मे अनावश्यक disturbance होने लगता है।
  • वही इसकी गुणवक्ता डिजिटल सिग्नल के मुकाबले कमजोर होती है।
डिजिटल सिग्नल क्या है ?(What is Digital Signal in Hindi)

डिजिटल सिग्नल आज के समय के काफी स्तेमाल कीया जा रहा है डिजिटल Signal (सून्य और एक) के रूप मे काम करता है.

यानि जब “O” हुआ तो इसका मतलब बंद और “1” का मतलब चालू होता है.इसकी bandwidth काफी फास्ट होती है.डिजिटल Signal मे कोई भी डेटा बाइनरी फॉर्म यानी (0 और 1) मे यात्रा करता है.

डिजिटल सिग्नल के फायदे |Advantage of Digital Siganl
  • यह काफी तेज गति से कार्य करता है।
  • यह ऐनलॉग सिग्नल के मुकाबले काफी कम आवाज करता है।
Digital Signal के नुकसान
  • यह ऐनलॉग सिग्नल के मुकाबले काफी ज्यादा bandwidth का स्तेमाल करता है।
  • वही यह ऐनलॉग सिग्नल के मुकाबले इसकी प्रोसेसिंग जटिल होती है।
Analog Signal और Digital Signal मे अंतर क्या है ?

एनालॉग सिग्नल और डिजिटल सिग्नल क्या है आपने जाना अब हम इन दोनों सिग्नल कैसे काम करते हैं? Signal के बीच अंतर के बारे मे जानते है.

Computers, Digital Phones, Digital pens,इत्यादि इस Signal का सबसे अच्छा उदाहरण है.

सिग्नल की परिभाषा

Signal एक electrical और electromagnetic current है जो आवृती और bandwidth के मदद से किसी भी डेटा को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस तक लाने और लेजाने का माध्यम बंता है.

इसका स्तेमाल ज़्यादार communication और किसी भी तरह के डेटा को भजने या पाने के लिए कीया जाता है.

सिग्नल का हिंदी अर्थ ?

सिग्नल का हिंदी अर्थ संकेत होता है .

सिग्नल कितने प्रकार के होते हैं?

Signal मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है.
1. Analog Signal
2. Digital Signal

फील्ड सिग्नल क्या है ?

हम बात करे फील्ड सिग्नल सिग्नल की तो यह टेक्नॉलजी से अलग हो जाता है कई फिल्मों मे आपने सैनिकों को किसी ऑपरेसन कर दौरान दुश्मन के इलाके मे शांति से एक दूसरे को एसारों के जरिए आगे बड़ते देखा होता है उसे ही फील्ड सिग्नल कहते है वही फील्ड सिग्नल कई प्रकार के होते है.

रोड/ट्राफिक सिग्नल क्या है?

रोड सिग्नल को हम को ट्राफिक लाइट के रूप मे जानते है है जिसमे हमे तीन तरह के लाइट देखने को मिलते है जो की होता है लाल, हरा और ऑरेंज यह सभी को मसीनो द्वारा नियंत्रण कीया जाता है जो किसी भी चौक चौराहे पर ट्राफिक को नियंत्रण करने हेतु कीया जाता है.

आज अपने क्या सीखा

मुझे उम्मीद है सिग्नल क्या है ?/डिजिटल सिग्नल क्या है/(What is Signal in Hindi) आप अच्छे से समज गए है मैंने Signal kya hai/Analog Signal in Hindi बहुत ही आसान भाषा मे समझाया है।

इस पोस्ट मे आपको यह भी जाना की डिजिटल और एनालॉग Signal क्या है कैसी लगी आपको यह जानकारी मुझे कमेन्ट कर जरूर बैट और पोस्ट अपने दोस्तों मे भी शेयर जरूर करे धन्यबाद

रेटिंग: 4.66
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 334
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *